Breaking News

सुपौल : चुगलखोर चुगला का मुंह जलाने के साथ सम्पन्न हो गया लोक पर्व ‘सामा चकेवा’

मिथिला सिटी न्यूज़ 

छातापुर।सुपौल।सोनू कुमार भगत।

चुगलखोर चुगला का मुंह जलाने के साथ ही मिथिला की संस्कृति के उत्सव का पर्व सामा चकेवा सोमवार की रात पारंपरिक रीति रिवाज के साथ सम्पन्न हो गया। मिथिलांचल के घर-आंगनों में शाम से ही सामा-चकेवा के गीत गूंजने लगे थे। इस दौरान महिलाओं ने भावपूर्ण पारंपरिक गीतों के साथ सामा-चकेवा को विदाई दी। तमाम ग्रामीण इलाकों में महिलाओं ने देर रात तक मिट्टी से बने सामा-चकेवा के विदाई की रस्म पूरी की।

परंपरानुसार सामा-चकेवा, सतभइया, वृंदावन, चुगला, ढोलिया-बजनिया, बन तितिर, पंडित और अन्य मूर्तियों के खिलौने वाले डाला को लेकर महिलाएं घरों से बाहर निकली तथा पटुआ से बने चुगला को जलाया और उसका मुंह झुलसाया गया। इसके बाद उन्हें सामूहिक रूप से विसर्जित किया गया। कहा कि जिस तरह एक बेटी को ससुराल विदा करते समय उसके साथ नया जीवन शुरू करने के लिए आवश्यक वस्तुएं दी जाती है ठीक उसी तरह से विसर्जन के समय सामा के साथ खाने-पीने की चीजें,कपड़े,बिछावन और अन्य आवश्यक वस्तुएं दी गई।

इस दौरान महिलाओं ने विदाई और समदाउन गीत भी गाये। विसर्जन के पूर्व भाई अपने घुटने से सामा चकेवा की मूर्ति तोड़ी उसके बाद बहन और भाई ने मिलकर केला के थम्ब को सजाकर नदी और पोखर में विसर्जित किया।छातापुर निवासी पण्डित राज किशोर गोस्वामी एवं पंडित गोपाल गोस्वामी ने बताया कि मिथिलांचल की पावन धरती पर अनेकों पर्व मनाए जाते हैं। लेकिन महान लोक संस्कृति से जुड़ी भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक यह उत्सव मात्र मिथिला में ही मनाए जाने की परंपरा रही है। हालांकि अब यह मिथिला से निकल कर देश के कोने-कोने और विदेश तक पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि पर्व-त्योहार सिर्फ खुशियां ही नहीं देती,बल्कि सामाजिक चेतना के साथ-साथ अच्छी सीख भी देते हैं। सामा-चकेवा आधुनिक समाज में चुगलखोरों को यह सीख देती है कि चुगलपनी करने का अंजाम वही होता है जो सामा-चकेवा के चुगला का हुआ।

इस लोक उत्सव के दौरान रोज भाई के नाम से पारंपरिक गीत गाए जाते हैं। इसके बाद हर दिन चुगला को थोड़ा-थोड़ा जलाया जाता है,ताकि भाई बुरी नजर से बच सके। पूर्णिमा की रात सामा चकेवा की पूजा के बाद भाई को चूड़ा-गुड़ और लड्डू दिया गया। इसके बाद बहनों ने सामा और चकेवा को पीला वस्त्र पहना कर विदाई दी है।

इस मौके पर छातापुर प्रखंड मुख्यालय समेत क्षेत्र के सोहटा, रामपुर, लालपुर, जीवछपुर, चुन्नी,तिलाठी, बलुआ सहित अन्य ग्रामीण इलाकों में धूम धाम से मनाया गया। इस दौरान बच्चों ने जमकर आतिश बाजी का लुप्त उठाया। मौके पर सोनू कुमार भगत, रवि रौशन, प्रतिमा देवी आदि थी।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

मंजू देवी की सफलता की कहानी उन्ही की जुबानी

🔊 Listen to this समस्तीपुर 18 नवंबर 2022 रिपोर्ट : देवेन्द्र कुमार महतो। समस्तीपुर, ताजपुर: …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *