मिथिला में सु प्रसिद्ध नवविवाहिताओं का महा पर्व मधुश्रावणी पर्व का समापन 23 जुलाई को

मधुबनी  22 जुलाई 2020

वर्ष 2020 के मिथिला में सु प्रसिद्ध नवविवाहिताओं का महा पर्व मधुश्रावणी पर्व का समापन 23 जुलाई 2020 को है।

रिपोर्ट  : पंकज झा शास्त्री ।
श्रावण मास, कृष्ण पक्ष, मौना पंचमी से शुरुआत यह पर्व नव विवाहित महिला बहुत ही नियम निष्ठा और संयम के साथ लगातार करती है इस पर्व का समापन श्रावण मास के शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि में होता है।नवविवाहिता द्वारा मधुश्रावणी पूजा की जाती है श्रावण मास के शुक्ल पक्ष तृतीया तिथि में बहुत ही धूमधाम से किया जाता है। गौरी-शंकर के साथ विषहारी और नागिन की भी विशेष पूजन होता है। पंद्रह दिनों तक चलने वाला यह पर्व नव दम्पतियों का मधुमास है। प्रथा है कि इन दिनों नवविवाहिता ससुराल के दिए कपड़े-गहने ही पहनती हैं और भोजन भी ससुराल के अन्न का बिना नमक के 14 दिन भोजन करती हैं।

रोज सुनाई जाती है अलग-अलग कथाएं-
इस पर्व के दौरान गणेश, चनाई, मिट्टी एवं गोबर से बने विषहारा एवं गौरी-शंकर की विशेष पूजा कर महिला पुरोहिताईन से कथा सुनती है। शिवजी-पार्वती सहित 14 खंडों की कथा सुनाई जाती है। इनमें शंकर-पार्वती के चरित्र के माध्यम से पति-पत्नी के बीच होने वाली नोक-झोंक, रूठना मनाना, प्यार, मनुहार जैसी बातों का भी जिक्र होता है, जिससे नवदंपती सीखकर अपने जीवन को सुखमय बनाएं। रोज अलग-अलग कथाओं में मौना पंचमी एवं विषहारा जन्म, बिहुला मनसा एवं मंगला गौड़ी, पृथ्वी जन्म एवं समुद्र मंथन, सती पतिव्रता, महादेव पारिवारिक, गंगा गौड़ी जन्म एवं काम दहन, गौड़ी तपस्या, गौड़ी विवाह और वर वरियाती, मैना मोह, कार्तिक गणेश जन्म, पतिव्रता सुकन्या, बाल बसन्त एवं गोसाउन तथा श्रीकर राजा की कथा सुनाई जाती है।

कोरोना का है असर-

15 दिनों तक चलने वाला यह पर्व नव दंपतियों का मधुमास है। जिसको लेकर नवविवाहिताओं ने खास तैयारियां कर रखी थी। लेकिन लॉकडाउन के कारण फूल लोढ़ने के लिए बाहर नहीं जाकर घर पर ही अपने सहेलियों के साथ फूल लोढ़ना और डाली सजाना पड़ रहा है। कोरोना के कारण घर से निकलना खतरे से खाली नहीं है। इसलिए पूजा के बाद घर पर ही अपने परिजनों के साथ फूलों से डलिया सजाने का कार्यक्रम किया गया।

(बासी फूल और पत्तियों से होती है पूजा अर्चना-)
तमाम देवी-देवताओं के पूजा के लिए ताजा फूल का उपयोग किया जाता है। लेकिन मधुश्रावणी में बासी फूल और पत्तियों से पूजा-अर्चना होती है। प्रतिदिन पूजन के बाद नवविवाहिता अपने सखी सहेलियों के साथ समूह बनाकर गांव के आसपास के मंदिरों एवं बगीचों में बांस की टोकरी में फूल और पत्ते तोड़ती हैं तथा गीत गाती हुई भरपूर आनन्द लेती है। इस फूल का उपयोग सूबह पूजन में किया जाता है, इसका विशेष महत्व है। पूजन स्थल पर पूूूरन (कमल का पत्ता) के पत्ते पर विभिन्न प्रकार की आकृतियां बनायी जाती है।
अग्नि परीक्षा का ही रूप है टेमी दागना-
पूजा स्थल पर नवविवाहिता की देख रेख में अखंड दीप प्रज्वलित रहते हैं। पंडितों का कहना है कि मधुश्रावणी पर्व कठिन तपस्या से कम नहीं है। पूजा के आखिरी दिन पति को पूजा में शामिल होना होता है। इस दिन सोलह श्रृंगार से सजी नवविवाहिता को टेमी से दागने की परंपरा है। मधुश्रावणी के अंतिम दिन देर शाम जलते दीप के बाती से शरीर के कुछ स्थानों पर (घुटने और पैर के पंजे) दागने की परम्परा भी वर्षों से चली आ रही हैं। कहा जाता है कि इसके माध्यम से महिलाओं के धैर्य और त्याग की परीक्षा होती है, जैसे सीता को भी अग्नि परीक्षा के दौर से गुजरना पड़ा था। वास्तव में यह पर्व महिलाओं में अदम्य साहास, संयम का होने का भी परिचय को दर्शाता है।

🌹🙏🏻🌹
पंकज झा शास्त्री
9576281913

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

कोरोना काल मे स्थगित स्नातक तृतीय खण्ड 2020 की परीक्षा सुरु।

🔊 Listen to this कोरोना काल मे स्थगित स्नातक तृतीय खण्ड 2020 की परीक्षा सुरु। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *