सोनपुर : लोक गायिका ने की बाबा हरिहरनाथ मंदिर में पूजा– संतों से लिया आशीर्वाद

सारण 05 मार्च 2020

छपरा : हरिहरनाथ मंदिर सोनपुर में पूजा अर्चना करने आयी प्रसिद्ध लोक गायिका व संगीत नाटक अकादमी भारत सरकार के सदस्य डॉ नुतन कुमारी नुतन ने सर्वप्रथम संत उदासीन मौनी बाबा का आशीर्वाद लेकर बोली कि 7 अगस्त को बाबा राम लखन दास जी महाराज के पुण्य तिथि पर होने वाली शास्त्रीय संगीत में गायन के लिय बाबा का आदेश मिलेगा तो आऊंगी। बुधवार की अहले सुबह में बाबा हरिहरनाथ का पूजा अर्चना व राम लखन दास मठ में संत उदासीन उर्फ मौनी बाबा से मिलकर पत्रकारों को बतायी की विगत 12 वर्षों तक कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाली विश्व प्रसिद्ध हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला के पर्यटन विभाग के मंच पर लोक गायन के लिये आती रही हु। परन्तु बाबा हरिहरनाथ मंदिर का आज तक पूजा अर्चना नही कर पायी थी। परंतु आज पूजा के साथ इतने बड़े संत मौनी बाबा का आशीर्वाद मिलने से मैं धन्य हो गयी।

गायिका डॉ नुतन ने कहा मैं बिहार की बेटी ,मोतिहारी की रहनेवाली हु।डॉ नुतन ने कहा कि भोजपुरी गीतों इतनी मिठास है कि पूरी दुनिया मे सम्मान मिलती है, भोजपुरी ही है जो भारतीय सभ्यता संस्कृति से एक अच्छे संस्कार मिलता है। परन्तु वर्तमान समय मे भोजपुरी गीतों में अश्लीलता होने के कारण गिरावट आयी है। उन्होंने कहा की लोक गीतों में भोजपुरी और मैथिली में शास्त्रीय संगीत, अर्द्ध-शास्त्रीय (ठुमरी, दादरा), लाइट म्यूज़िक (ग़ज़ल) के साथ अंगिका, बज्रिका और माघही जैसे कई अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में गा चुकी हूं। उन्होंने ने कहा कि सबसे ज्यादा लोक गीतों के लिय ही लोकप्रिय हु। उन्होंने बताया कि प्रसव के दौरान, सुमनगली – शादी से जुड़ी, रोपनीगेट – बोने की बोतलें, काटनीजेट के मौसम के दौरान प्रदर्शन किया – धान की कटाई का मौसम, पूरबी, फागुआ-होली उत्सव का गीत, घतो-चैत चयती (हिंदी कैलेंडर) में महीने में बहुत लोकप्रिय है, भिखारी ठाकुर (बडीस), बिरहा, काजारी, पछरा, झूमर, जाटसरी, आल, निरुगुन, संदुन और पारंपरिक युद्ध के गीतों में से बीयर कुंवर नामक पारंपरिक गीत गा चुकी हूं। डॉ नुतन ने कहा कि मैं सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विश्व के सबसे बड़े उस्ताद गुलाम अली, अनूप जलोटा, रवींद्र जैन, हरिहरन, अहमद हुसैन-मोहम्मद हुसैन, भूपेंद्र, शारदा सिन्हा और चंदन दास जैसे बड़े कलाकारों के साथ मंच साझा कर चुकी हूं। डॉ नीतू ने कहा कि मॉरिसस में मॉरीशस के राष्ट्रपति (2013), बिहार के मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए युवा विंध्यावासनी सम्मान – नीतीश कुमार (2013) सुर्षी पुरस्कार, मुंबई (2015), मस्कत भोजपुरी अवॉर्ड- ओमान (2014) में से सम्मनित हो चुकी हूं।

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

कोरोना काल मे स्थगित स्नातक तृतीय खण्ड 2020 की परीक्षा सुरु।

🔊 Listen to this कोरोना काल मे स्थगित स्नातक तृतीय खण्ड 2020 की परीक्षा सुरु। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *