Breaking News

विजयदशमी पर रावण के पुतला दहन से पहले अपने मन की ईर्ष्या क्रोध रूपी रावण को वध करने की जरूरत – पंकज झा शास्त्री

मधुबनी 07 अक्टूबर 2019

विजया दशमी के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं। नवरात्र के विजया दशमी का बहुत महत्व माना गया है। इसी दिन मां ने महिषासुर रूपी रावण का वध किया और भगवान श्री राम ने देशमुख वाले रावण का वध किया। आज कई जगह रावण का पुतला फुका जाता है अब किसी के परंपराओं का हम विरोध तो नही कर सकते। परन्तु इतना जरूर कहेंगे कि रावण का वध के बारे में तो उल्लेख मिलता है लेकिन हमारे जानकारी के अनुसार रावण जलते चिता के बारे में उल्लेख नही मुझे मिल रहा है मै इस विषय पर अभी किसी भी प्रकार से दावा भी नही कर सकता।
मुझे लगता है कि कुछ हद तक रावण लोभ ,क्रोध, ईर्ष्या, एवं अन्य प्रकार से आतंक तथा अन्य बुराई आज भी जिंदा है। अपने जीवन से इस तरह के बुराई को बध करने या त्यागने की जरूरत है। अपने अंदर से राम रूपी मानवता को जागाने की जरूरत है। कम से कम जीवन से अपने अंदर बुराई रूपी रावण को को बध करके सिर्फ एक राम रूपी अच्छाई को अपने जीवन के प्रत्येक नवरात्र में जरूर संकल्प लेना चाहिए। जब मन में इस तरह का संकल्प हो निश्चित रूप से कई बाधाओं को बहुत ही सरलता से हम पार कर सकते है।

पंकज झा शास्त्री
9576281913

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

वैशाली : ज्ञान विज्ञान एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता” को ले बैठक  सम्पपन्न  – मिथिलाा सिटी न्यूज़़ 

🔊 Listen to this वैशाली 21 अक्टूबर 2019 रिपोर्ट : नसीम रब्बानी। वैशाली(परसौनिया)  : लक्ष्मी …