जैसी होगी स्मृति वैसी बनेगी स्थिति : शास्त्री – मिथिला सिटी न्यूज़ 

मधुबनी 14 सितम्बर 2019

रिपोर्ट  : पंकज झा शास्त्री ।

मधुबनी  : लगभग यह सभी कोई जानते होंगे कि जैसी स्मृति होती है वैसी स्थिति स्थिति बनती है। श्रेष्ठ स्मृति से ही श्रेष्ठ स्थिति बनती है। सबसे श्रेष्ठ स्मृति है परमात्मा की, जो स्वयं को देह से न्यारी आत्मा रूप में अनुभव करने से ही निरंतर बनी रह सकती है। संसार की हर क्रिया, एक विरोधी क्रिया से जुड़ी है। हम स्वांस लेते है पर लेना जितना जरूरी है उतना ही जरूरी स्वांस छोड़ना है। हम विस्तर फैलाते है, सोते है पर उठना और फैले बिस्तर को समेटना भी जरूरी है। हम धन संग्रह करने में जुटे है पर धन संग्रह करना जितना जरूरी है, धन का विसर्जन भी उतना ही जरूरी है। यह जान ले की सम्पत्ति ईश्वर की होती है, उसे मेरा मानने से समस्याएं खड़ी होती है। इस सृष्टि में कर्म के द्वारा कला दिखाने आए है और कर्म कला का दृश्य समाप्त होते ही वापस जाना होगा। मान लीजिए कि यदि लोग यहां कला ही दिखाते रहे और वापस न जाए तो कल्पना कीजिए कि इस सृष्टि का दृश्य कैसा होगा? इसलिए प्रति दिन के कार्य व्यवहार के बीच रहते भी यह याद सदैव स्मृति में होनी चाहिए कि मै आत्मा इस देह में मेहमान हूं। मुझे इस नष्टवान देह को छोड़ कर इस रंग मंच से जाना है। इसलिए सदैव साकारात्मक विचार को हो अपनाने का प्रयत्न करनी चाहिए जिससे व्यवहार भी सकारात्मक होगा।

पुरी खबर पढने के लिए धन्यवाद ।

संपर्क सूत्र – 9835638095

नोट- ज्योतिष, हस्त लिखित जन्मकुंडली, वास्तु, पूजा पाठ महा मृत्युंजय जाप एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठानों के लिए संपर्क कर सकते हैं।

पंकज झा शास्त्री
9576281913

Website Design By Mytesta +91 8809666000

Check Also

माक्स एवं साबुन बितरण करते हुए मुखिया ने लोगों को जागरूक किया।

🔊 Listen to this फ़ोटो:-बृद्ध को मास्क पहनाते हुए मुखिया बिनोद राय, समस्तीपुर,ताजपुर:29 मई2020; जिले …